Sunday, July 3, 2011

कोई एक अदृश्य हाथ



क्या सचमुच
संभव है ऐसा
की
उम्र भर जमा की हुई
समझ की पूंजी
किसी एक क्षण में
विपरीत दिशा से उभर कर 
चुरा ले जाए
कोई एक अदृश्य हाथ 
 
पूंजी पहचान की
पीढी दर पीढी
सहेजते
सुरक्षित रखते
अर्थ पाते 
साँसों का जिससे
 
वह पूंजी कैसे ले
जा सकता है कोई
 
देख कर भी
यकीन नहीं होता
की हमें जो दिखाई दे रहा हैं
वह यही नहीं है
वरन कुछ और हैं
 
अपने तक लौटने की यात्रा के लिए
इस बार फिर
जरूरत है
की हम
उसे देखें
जो दीखता नहीं है
 
इन बरसती बूंदों के
रिमझिम संगीत में
सुनता नहीं वह

माटी की सौंधी गंध से भी
पहुँचता नहीं है उसका परिचय
हमारे नथुनों तक
 
क्योंकि
एक वो कड़ी
जो हमें जोडती रही
इन सबसे
चुरा ली गयी है
 
और हम
चोर को चोर कहने में
अब भी संकोच करते हैं
 
अशोक व्यास
न्यूयार्क, अमेरिका
३ जुलाई २०११          
चुरा ले जाए
    
   

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

जीवन का एक नया रहस्य खुलता है और हम अज्ञानी होने लगते हैं।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...