Monday, July 12, 2010

वो जानता तो सब है


मेला समेटने वाला
अनदेखा करता है
धरती पर बिखरे 
उल्लास और उमंगों के रंग
 
उसे 
तो हर चिन्ह मिटाना है
फिर कहीं जाकर
नया मेला सजाना है

उसे मालूम तो है
वो सब
जो उमड़ता है
मेले के झकाझक उजाले में
वो झूले, वो भेल-पूरी, वो चाट, वो खेल
वो गुब्बारे
और बिना बात हँसते लोगो के रिश्ते

वो जानता तो सब है
शायद कभी 
वैसे भी आया था मेले में
जैसे कि और लोग आते हैं
पर अब
वो मेले को जीता नहीं
मेला परोसता है
खुशियों के पल रचने का आधार बनाता
वो ना जाने किस पल
समेट चुका है
अपना रिश्ता
घटती-बढ़ती खुशियों से
 
अशोक व्यास 
न्यूयार्क, अमेरिका
सुबह ६ बज कर ५५ मिनट
सोमवार, १२ जुलाई २०१०



2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

मेले का मर्म जो जान लिया,
कर्म वो अपना जान लिया।

सूर्यकान्त गुप्ता said...

हम जी रहे हैं मेले का एक पात्र बनकर। और बाकी सजाने वाला तो सबका मालिक ही है जो है तो एक जिसे देखने के (देखना तो इस कलियुग मे असंभव सा लगता है क्योंकि आज चारों ओर देखने पर पता चलता है कि बड़े बड़े साधू संत भी इस युग के प्रभाव से अछूते नहीं हैं। रचना भावपूर्ण। सुन्दर।

कविता

कविता न नारा न विज्ञापन कविता सत्य खोजता मेरा मन कविता न दर्शन न प्रदर्शन कविता अनंत से खेलता बचपन कव...